गुरुवार, 2 अप्रैल 2009

तुम्हारे जाने के बाद

फूल सभी मुरझा गए
सूरज बुझ गया
चिडियाँ गूँगी हो गयीं
सन्नाटा फैल गया सब ओर 
दिशाएँ सूनी हो गयीं
रंगों से भरा ये संसार
कब हो गया फीका -फीका सा
मुझे कुछ भी नहीं याद
कि देखी हैं कब बहारें मैंने
तुम्हारे जाने के बाद
 ... ... ...

तुम्हारे होने से
फैल जाती थी
हवाओं में महक और
गुनगुना उठती थीं पेड़ों की पत्तियाँ
सारा संसार लगता था
अपना -अपना सा
जगता था अपने अस्तित्व की
पूर्णता का अहसास
आज अधूरी हो गई हूँ मैं
तुम्हारे जाने के बाद ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. dard liye hue hai ....dil ki khamoshi bhi kabhi kabhi bahut kuchh kah jati hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. अहसासों की सुन्दर अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति , सचमुच आँखें वही देखती हैं , जो मन के अहसास उसे दिखाते हैं |

    उत्तर देंहटाएं