शनिवार, 16 मार्च 2013

औरतों के प्रश्न

औरतों के प्रश्न करते ही
हिल उठती हैं बुनियादें परिवारों की
चरमरा उठता है समाज का ढाँचा,
या तो ज़रूरत से ज़्यादा
विध्वंसक हैं स्त्री के प्रश्न
या कहीं अधिक खोखली और कमज़ोर है
नींव घर-परिवार और समाज की,

तो क्या करें?
प्रश्न उठाना छोड़ दें,
या तोड़ दें उन रवायतों को
जो उठ खड़ी होती हैं हर बार
औरतों के विरुद्ध
उनके अधिकारों के प्रश्न पर,

या कर लें समझौता उस व्यवस्था से
जो अपनी ही आधी आबादी के प्रति
अपनाती है दोहरा रवैया,
देकर उसे समाज में दोयम दर्ज़ा
छीन लेती है
प्रश्न करने का अधिकार।

17 टिप्‍पणियां:

  1. Un ritiyon ko tod dijiye... jo ek naari ke samman aur aan ki raksha na kare...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. Un ritiyon ko tod dijiye... jo ek naari ke samman aur aan ki raksha na kare...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. शायद समझौता कोई हल नहीं ... पर सतत संघर्ष में साथ छोड़ने लगता है मन कभी कभी ...
    सार्थक सटीक रचना है .... मन के भाव लिखे हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. पुरानी रीतिओं तोड़ने के बाद जो नई रीतियाँ बनेंगी ..क्या वो इस से अधिक सुरक्षित होंगी ?
    क्या इस बात की गारंटी है ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ, जो भी नयी रीतियाँ होंगी वो बराबरी पर आधारित होंगी. क्योंकि पुरानी रीतियाँ मर्दों ने अपनी सहूलियतों के हिसाब से बनायी थीं.
      विवाह तब भी होंगे. परिवार तब भी होंगे. औरतें बच्चा तब भी पैदा करेंगी, लेकिन उनको अपने निर्णय लेने की आज़ादी होगी. औरतें ये तय कर सकेंगी कि वो शादी करें या न करें और करें तो कब और किससे करें. बच्चे कितने पैदा करें और चाहे वो लड़का हो या लड़की उसे समान भाव से पालें....
      और हाँ, ये भी कि अगर घर के अन्दर और बाहर औरतें सुरक्षित होंगी तो भ्रूण-हत्याएँ भी नहीं होंगी.

      हटाएं
    2. परिवार में निर्णय की आजादी किसी को नहीं होती। पहले समस्या को समझना जरूरी है। अतिरेक बुरा होता है।
      नारी की मूल रूप में चाहिए; पहला - बोलने की आजादी और फिर हमबिस्तर होने के लिए 'न' कहने की आजादी। ये दो मूल समस्यायें हैं। विचार करिए। बराबरी की शुरूआत यहीं से हो सकती है।

      हटाएं
  5. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 13/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रश्न किए जाएंगे तभी उत्तर मिलेंगे। बहुत सुन्दर। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन रचना
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्रांतिकारी विचार.

    www.kahekabeer.blogspot.in पर भी जाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. संवेदनशील रचना अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं

  10. सार्थक अवलोकन
    वाकई स्त्री जो सहती है,वह कह नहीं पाती
    संवेदना की तह तक जाती रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
    कहाँ खड़ा है आज का मजदूर------?

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर और संवेदनशील अभिव्यक्ति | आभर

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  12. कोई नहीं है हमारा यहाँ ,
    है मतलबी यह सारा जहाँ।

    उत्तर देंहटाएं