शुक्रवार, 29 अप्रैल 2011

रिश्ते टूटते हैं प्यार नहीं टूटा करता

सोचती हूँ हम दोनों के बीच
जो था वो था भी कि नहीं
ये कैसा खालीपन है
इस पार से उस पार तक
सूखी पहाड़ी नदी पर पसरे रेत सा
सफ़ेद, सफ़ेद और सफ़ेद

यूँ तो खालीपन पहले भी था
पर कुछ चीज़ों से भरा-भरा
कुछ चुहल भरी बातें
कुछ मिस्री घुली यादें
उनींदी आँखों के कुछ रंग भरे सपने
दो दिलों में पलने वाले प्यार की खुराक
हम मानते थे
खालीपन ज़रूरी है प्यार के विस्तार के लिए

हम सोचते थे भर देंगे इस खालीपन को
लबालब अपने प्रेम से
और फिर दो किनारे मिल जायेंगे
इस पुल के सहारे-सहारे
पर सोचा हुआ होता है क्या कभी?
अब बस खालीपन है और कुछ भी नहीं
उस पार किसी के होने की आस तक नहीं

कभी लगता है सब भ्रम था
या कि एक रात का सुन्दर लंबा सपना
पर नहीं, भ्रम नहीं, था ये शाश्वत सत्य
एक किनारे वाली इस रेत की नदी में
डूब-डूब जाता है मन, ढूँढने को पुरानी बातें
पुल टूट गया तो क्या
प्यार तो बाकी है अब भी कहीं
मेरे दिल के किसी कोने में मौजूद,

सुकून है अब बस
किसी से मिलने की बेचैनी नहीं
बिछड़ने का डर भी नहीं
कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
कितनी राहत दे जाता है
क्योंकि प्यार तब भी रहता है
रिश्ते टूटते हैं
प्यार नहीं टूटा करता.

34 टिप्‍पणियां:

  1. बज्ज़ पर मज़ाक ही कर रहे थे कि तुमने सदमा दे दिया... अब खाली हैं तो क्या जरुरी है कि उदास हो जाएँ ? बताओ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया सोच !
    यह देढ़ मिनट की यह यू-टुबही पीस सुनी जा सकती है :
    http://www.youtube.com/watch?v=romyMXtuIz4

    उत्तर देंहटाएं
  3. @ सागर, उदास कौन है डियर? मैं तो इस खालीपन को इंज्वाय कर रही हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. @ अमरेन्द्र, धन्यवाद ! नीरज की कविता को उनकी आवाज़ में सुनना सुखद है. बहुत छोटी थी तो मेरे स्कूल में हर साल कवि-सम्मलेन का आयोजन किया जाता था. वहाँ नीरज हर साल ही आते थे. उन्हें सामने से दूर से देखने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
    कितनी राहत दे जाता है
    क्योंकि प्यार तब भी रहता है
    रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.

    सच है...प्यार और भी महफूज़ हो जाता है...दिल के अंदर....अब उसे कोई खतरा नहीं होता....
    पर बेहद उदास कर गयी ,ये कविता

    उत्तर देंहटाएं
  6. सोचती हूँ हम दोनों के बीच
    जो था वो था भी कि नहीं
    se shuru kar
    रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.
    tak ki yatra sanshay se nischay ki or hai. yahi jeevan ki bhi gati honi chahiye.
    ek achhi kavita ke liye badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक किनारे वाली इस रेत की नदी में
    डूब-डूब जाता है मन, ढूँढने को पुरानी बातें
    पुल टूट गया तो क्या
    प्यार तो बाकी है अब भी कहीं
    मेरे दिल के किसी कोने में मौजूद,''

    .......क्या बात है!....
    प्यार जिन्दा है अगर दिल में तो रिश्ता भी बना रहता है ...

    दिल के रिश्ते न तो इतनी आसानी से छूटते हैं न प्यार कम होता है...
    http://www.youtube.com/watch?v=wfveoxmvzf8

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुकून है अब बस
    किसी से मिलने की बेचैनी नहीं
    बिछड़ने का डर भी नहीं
    कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
    कितनी राहत दे जाता है
    क्योंकि प्यार तब भी रहता है
    रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.

    सच है प्यार का रिश्ता तो अटूट है. बहुत ही भावनात्मक प्रस्तुति. एक अच्छी कविता और इसके लिए बहुत बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. sach me pyar esi khalipan ke sath jinda v rhta hai...sayad pyar thak kr kvi sustata hai mgr rukta nhi hai....ek sundr kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुकून है अब बस
    किसी से मिलने की बेचैनी नहीं
    बिछड़ने का डर भी नहीं
    कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
    कितनी राहत दे जाता है
    क्योंकि प्यार तब भी रहता है
    रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.

    कितनी सहजता से कह दिया कि अब बेचैनी नहीं ...खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुकून है अब बस
    किसी से मिलने की बेचैनी नहीं
    बिछड़ने का डर भी नहीं
    कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
    कितनी राहत दे जाता है
    क्योंकि प्यार तब भी रहता है
    रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता. -- बेहद खूबसूरत भाव जो सच में आनन्दमय हो जाता है.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
    कितनी राहत दे जाता है
    क्योंकि प्यार तब भी रहता है
    रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.

    बिल्कुल अलग अंदाज़ रहा है...बहुत खूब
    अपना एक शेर भी याद आ रहा है-
    टूटे रिश्तों के बीच भी शाहिद
    कोई रिश्ता जुड़ा सा रहता है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सही है -
    कर दे मुश्किल जीना
    ये इश्क कमीना!
    बहरहाल अब तो उबरती हुयी लगती है कवयित्री ...
    मगर मैं तो यह कहूं -
    'बात पिछली भूल जाओ ,
    दूसरी नगरी बसाओ '-
    प्रेमियों के प्रति रही है ,हाय कितनी क्रूर दुनिया :)
    (हरिवंश राय जी की )यह बात भी तुम अब भूल जाओ .....
    राज कमल पेपर बैक्स ने हरिवंश जी की प्रतिनिधि कवितायें छापी हैं-
    आज ही जुगाडिये-आद्योपांत एक सिटिंग में मेरी ही भांति पढ़ डालिए ..
    करीब होता तो सुबह सुबह लेकर अब तक पहुँच गया होता!
    अगर चिडे की तरह उड़ भी आऊँ तो ... मगर सोना से डर लगता है !:)

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक किनारे वाली इस रेत की नदी में
    डूब-डूब जाता है मन, ढूँढने को पुरानी बातें
    पुल टूट गया तो क्या
    प्यार तो बाकी है अब भी कहीं
    मेरे दिल के किसी कोने में मौजूद....
    ek tis jo tum mein kahin uljh rahi hai ab bhi...!

    उत्तर देंहटाएं
  15. जिन्‍दगी में कभी कभी खाली होना भी जरूरी है ताकि उसे फिर से भरा जा सके।
    *
    सच है रिश्‍ते ही टूटते हैं प्‍यार तो रहता है। वह नष्‍ट होने वाला अहसास नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सोचती हूँ हम दोनों के बीच
    जो था वो था भी कि नहीं
    ये कैसा खालीपन है
    इस पार से उस पार तक
    सूखी पहाड़ी नदी पर पसरे रेत सा
    सफ़ेद, सफ़ेद और सफ़ेद
    hota to khokhlapan kaise hota... bhawpurn rachna

    उत्तर देंहटाएं
  17. रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.
    प्यार जन्य रिश्ते न टूटे ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. शुक्रवार को आपकी रचना "चर्चा-मंच" पर है ||
    आइये ----
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  19. पात्र तो कमजोर होते है.. टूट जाते है... पर प्यार सब कुछ के बावजूद बचा रहता है...यही सच है...
    बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  20. आखिरी पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं।
    ----------------
    कल 03/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  21. dil ki gehraai main utarkar jo bhav jo shabd bahar nikalte hain wahi shabd hain yeee bahut hi sundar likha hai...all da best

    उत्तर देंहटाएं
  22. यूँ तो खालीपन पहले भी था
    पर कुछ चीज़ों से भरा-भरा
    कुछ चुहल भरी बातें
    कुछ मिस्री घुली यादें
    उनींदी आँखों के कुछ रंग भरे सपने
    दो दिलों में पलने वाले प्यार की खुराक
    हम मानते थे
    खालीपन ज़रूरी है प्यार के विस्तार के लिए .......बस चंद लम्हात ही होती है ज़िन्दगी ,यही नखलिस्तान ज़िन्दगी का ,ओएसिस ता-उम्र याद रहती है ,हिमोग्लोबिन का अंश बन जाती है .अच्छी बहुर अच्छी प्रस्तुति .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Wednesday, August 10, 2011
    पोलिसिस -टिक ओवेरियन सिंड्रोम :एक विहंगावलोकन .
    व्हाट आर दी सिम्टम्स ऑफ़ "पोली -सिस- टिक ओवेरियन सिंड्रोम" ?


    सोमवार, ८ अगस्त २०११
    What the Yuck: Can PMS change your boob size?

    http://sb.samwaad.com/
    ...क्‍या भारतीयों तक पहुंच सकेगी जैव शव-दाह की यह नवीन चेतना ?
    Posted by veerubhai on Monday, August ८

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही सुंदर कविता है। आपकी अन्य कविताएं भी पढ़ी। सभी उच्चस्तरीय मन्थन से निकली हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  24. I inspire your poem. Each and every lines are excellent lyrics. I enjoyed to read this blog.

    web hosting india

    उत्तर देंहटाएं
  25. I inspire your poem. Each and every lines are excellent lyrics. I enjoyed to read this blog.

    web hosting india

    उत्तर देंहटाएं
  26. रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.
    kitni sahi aur sachchi baat.......wah.

    उत्तर देंहटाएं
  27. रिश्ते टूटते हैं प्यार नहीं टूटा करता ----सदैव स्मरण रहेगा | अति भाव भीनी कविता !
    सुधा भार्गव

    उत्तर देंहटाएं
  28. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  29. सही कहा आपने, रिश्ते टूटते हैं - प्यार नहीं टूटा करता.

    उत्तर देंहटाएं
  30. कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
    कितनी राहत दे जाता है..... beautiful ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. ▬● अच्छा लगा आपकी पोस्ट को देखकर... साथ ही आपका ब्लॉग देखकर भी अच्छा लगा... काफी मेहनत है इसमें आपकी...
    नव वर्ष की पूर्व संध्या पर आपके लिए सपरिवार शुभकामनायें...

    समय निकालकर मेरे ब्लॉग्स की तरफ भी आयें तो मुझे बेहद खुशी होगी...
    [1] Gaane Anjaane | A Music Library (Bhoole Din, Bisri Yaaden..)
    [2] Meri Lekhani, Mere Vichar..
    .

    उत्तर देंहटाएं
  32. कभी-कभी किसी रिश्ते का टूटना
    कितनी राहत दे जाता है
    क्योंकि प्यार तब भी रहता है
    रिश्ते टूटते हैं
    प्यार नहीं टूटा करता.

    bahut sunder!

    उत्तर देंहटाएं