मंगलवार, 3 अगस्त 2010

क़र्ज़

एक औरत
चुका सकती है
माँ के दूध का क़र्ज़,
कुछ हद तक... 
ख़ुद माँ बनकर
एक पुरूष, 
यह नहीं कर सकता,
सृष्टि के आदि से अंत तक
संसार के सभी पुरुषों पर
रहेगा हमेशा 
यह क़र्ज़ .

18 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत और गहन चिंतन ....

    क़र्ज़ तो नहीं उतार सकता बस grudge करता रहता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुक्ति अगर कविता की बात करें तो सुंदर है।
    विचार की बात करें तो अधूरा है। पहली बात तो मां का दूध कर्ज नहीं होता। वह खून होता है शरीर का। कहते हैं जिन बच्‍चों को मां का दूध नहीं मिलता वे कमजोर रह जाते हैं।
    अधूरा इसलिए कहा मैंने,सच है कि स्‍त्री मां का कर्ज चुका सकती है मां बनकर। पर हम क्‍यों भूल रहे हैं कि मां बनने के लिए उसे एक पुरुष भी चाहिए होता है। दूसरे शब्‍दों में यदि इसे यूं कहा जाए कि आखिर वह कर्ज चुकाने के लिए पुरुष का सहारा ही लेती है न। इसलिए यह अवधारणा ही गड़बड़ है कि मां का दूध कर्ज होता है।
    माफ करें मेरे विचारों को पुरुषवादी खांचे में डालकर न देखें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. @ उत्साही जी, माँ का दूध क़र्ज़ नहीं होता, ये मैं नहीं मानती. माँ बनना सिर्फ फ़र्ज़ नहीं है, एक बहुत बड़ी बात है. जब स्त्री-पुरुष बच्चे होते हैं, तो इस बात को बिल्कुल समझ नहीं पाते. पर जब औरत खुद माँ बनती है और अपने बच्चे को नौ महीने कोख में रखती है, फिर उसे दूध पिलाती है तो वह माँ के सुख की जो अनुभूति करती है, वह पुरुष कभी नहीं कर सकता. यही कारण है कि बचपन में पिता को अधिक प्रेम करने वाली बेटी जब खुद माँ बनती है तो उसका माँ के प्रति अधिक झुकाव हो जाता है.
    कविता मैं विचार करके नहीं लिखती. मेरा ये कतई मतलब नहीं है कि पिता का महत्त्व नहीं है. मेरा कहना मात्र इतना है कि औरतों की सृजन की शक्ति उसका सबसे बड़ा सुख भी है. यह एक ऐसा सुख है जो पुरुषों को नहीं प्राप्त. माँ का क़र्ज़ तो कोई उतार ही नहीं सकता, पर औरत उसे महसूस कर सकती है और पुरुषों पर ये क़र्ज़ हमेशा रहता है क्योंकि वो उसे महसूस नहीं कर सकता, सृजन का एक भाग होते हुए भी वह उसके अनुभव से वंचित रहता है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुक्ति आपकी इस व्‍याख्‍या से सहमति है। आपने सही कहा कि स्‍त्री को मातृत्‍व के नाते जो सुख और संतोष मिलता है वह पुरुष को चाहकर भी नहीं मिल सकता। हां एक मां पिता की भूमिका भी निभा सकती है। पर पिता मां की भूमिका में भी अधूरा ही होता है।
    यह भी सच है कि अच्‍छी कविता विचार करके नहीं लिखी जाती। पर एक अच्‍छी कविता विचार तो बन ही जाती है न।
    अन्‍यथा न लें। आपकी कविता में समझ और विचारों की जो गूंज है वह एक प्रतिनिधि स्‍वर है जो आपको इस ब्‍लाग जगत में औरों से अलग करता है। इसलिए मेरी अपेक्षा एक कवि के नाते आपसे कहीं अलग है। यह अपेक्षा है एक विचारवान कवि होने की। आखिर कविता हमारे लिए एक औजार की तरह है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्य वचन हैं ,
    लेकिन हम मां बन कर भी मां का या पिता का क़र्ज़ कभी नहीं उतार सकते

    उत्तर देंहटाएं
  6. ek karj chuka sakta hai purush BAAP bankar pita bankar
    behad kaharab rachna, agar esme kuch adhura rah gaya ho to ese dobara se add ka len aradhan didi

    उत्तर देंहटाएं
  7. srajan ka jo sukh orat pati hai vo purus kvi mhsus v nhi kr skta..sunder rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कोई शक नहीं मां के दूध का कर्ज नहीं उतारा जा सकता। पर सवाल वही है कि क्या पिता का कर्ज उतारा जा सकता है। मां के पैरों से और पिता के हाथों में जन्नत का रास्ता जाता है। फिर
    एक के बिना दूसरा कैसे..?
    दोनो अकेले..आधे अधूरे....
    मां नहीं....सुख का आंचल नहीं
    पिता नहीं..उम्मीदों का सहारा नहीं
    मात-पिता....दो पर हमारी एक ताकत

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुक्ति ,
    मैं तो यही कहूँगा दोनों ही ऋण चुकाना सहज नहीं -मातृ ऋण और पित्र ऋण ! हाँ अपने नारी के चिरन्तन मातृत्व से भरपाई आकांक्षित की है -यह एक सुन्दर ख़याल है !
    सुन्दर संक्षिप्त ,भाव पूर्ण कविता ! (संक्षिप्तता वाक विदग्धता की आत्मा है -अंगरेजी से गलत अनुवाद तो नहीं हुआ :) }

    उत्तर देंहटाएं
  10. सहमत हूँ!
    इस बहस में नहीं पड़ना चाहता के कौन कितना ज़रूरी है! ये पढ़े-लिखे लोगों का काम है.....
    मैं तो बेशक हूँ..... मरते दम तक कर्ज़दार अपनी माँ का!
    वो हालांकि ऐसा नहीं मानती, ये उसकी महानता है!

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या बात कही है...गहन चिंतन .वाकई ये क़र्ज़ नहीं उतर सकता ..
    देरी से आने की माफ़ी चाहती हूँ इधर कुछ दिनों से थोडा व्यस्त हूँ ..काफी कुछ पढ़ना बाकि है ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. कविता और राजेश उत्साहीजी से टिप्पणी वार्ता बहुत सुन्दर लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये न लिखतीं तो शायद कुछ और होता....
    "कुछ हद तक... "
    पर अब तो अक्षरशः सहमत!

    उत्तर देंहटाएं
  14. awesome...
    simply written and well presented...
    And I don't think its incomplete... People who are talking about "maa ka doodh khoon hota hai" yell them that now techno is so much developed that we don't need a male to be a mother...
    Obvious father is also having important part but when its comes in front of mother, nobody stands... and what about the 9 months... ask them...
    Heartly thanks...

    उत्तर देंहटाएं