शुक्रवार, 17 सितंबर 2010

बड़की भौजी

उसका ब्याह तब हुआ
जब उसे मालूम भी नहीं था
कि वो एक औरत है,
लाल साड़ी में लिपटी ससुराल आयी
वापस गयी बरसों बाद
जैसे यहीं नाल गड़ी हो उसकी,
... ...
उसे कोई शिकायत नहीं थी
वो रोज़ सुबह उठकर नन्हे हाथों से
जांते में गेहूँ डालती
और अपनी ख्वाहिशों को
पिस-पिसकर ज़मीन पर गिरते देखती,
तवे पर पड़ी रोटी
जब फूलकर गुब्बारा हो जाती
तो उसके चेहरे पर चमक आ जाती थी,
... ...
वो हँसती रहती
मानो सारी परेशानियों को
सूप से पछोरकर उड़ा दिया हो
दुखों को बुहार दिया हो
और चिंताओं को फेंक दिया हो
चावल के कंकड़ों के साथ बीनकर,
... ...
इच्छाएँ, आशाएँ, आकांक्षाएँ क्या होती हैं?
उसे नहीं पता
वो कुछ नहीं सोचती
और ना कुछ कहती अपने बारे में,
अपनी छोटी सी दुनिया में खुश,
निश्चिंत, खिलंदड़ और हँसमुख बड़की भौजी को
चूल्हे के धुँए की आड़ में
अपने आँसुओं को छिपाते पकड़ा
"लकड़िया ओद हौ, धुअँठैले"
बचपने में ब्याह
खेल-खेल में
तीन लड़कियाँ हो गयीं हैं उसकी... ...

(नीचे वाला चित्र मेरी सहेली चैंडी के कैमरे से, ऊपर वाला फ्लिकर के सौजन्य से)

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब, काफ़ी अरसे बाद एक अच्छी कविता पढ़ने को मिली. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भींगी पलकों के साथ मुस्कुराना शायद स्त्री की नियति होती है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरे पास शब्द नहीं है। अभी समीर जी की जिंदा सूखा गुलाब पढकर आया। मन जाने कैसा हो गया। अब आप भी एक दुख को बयां कर रही हैं। जिंदगी अनेक रंग में होती है। उसमें हल्का सा भी दुख लगता है क्यों देता है उपर वाला। पता नहीं कर्मों का खेल है है क्या। है भी तो जाने कौन से जन्म का।
    खेल खेल में ही
    खेलने की उम्र में
    तीन बच्चे हो गए.....

    हाय री नियती...

    उत्तर देंहटाएं
  6. भारत की प्रतिनिधि नारी की असली तस्वीर !

    उत्तर देंहटाएं
  7. लगता है मुक्ति जी जैसे कविता लिखते लिखते आप रुक गई हैं। इसे पूरी करिए। फिर टिप्‍पणी देंगे।
    आरंभ्‍म बहुत मार्मिक है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वो हँसती रहती
    मानो सारी परेशानियों को
    सूप से पछोरकर उड़ा दिया हो
    दुखों को बुहार दिया हो
    और चिंताओं को फेंक दिया हो
    चावल के कंकड़ों के साथ बीनकर,


    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन रंगों खून पढ़ते हउवे बर्फ बन जाता है..........

    उत्तर देंहटाएं
  10. han ...aaj bhi yahi halat hai door daraaj ilaakon me ya pichde ilaakon me aurton ki ...aisa nahi ki shahar me nahi hota ....bas sankhya kam hai aisi ghatnaon kee..."badhiya kavita" to kahunga nahai kyunki kisi ka dukh hai ...haan aap chetna ko jagaane ka kaam kar rahi hain ..karti rahiye shubhkamnayen sath hain ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. aradhana..kya kehoon..kitni sundarta se ukera hai tumne..!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कविता बढ़िया लगी आराधना.. लेकिन ऊपर वाले चित्र और कविता में सामंजस्यता नहीं दिखी.. वो चित्र बडकी भौजी का सा नहीं बल्कि किसी आधुनिक पढ़ी लिखी युवती का सा लग रहा है..

    उत्तर देंहटाएं
  13. इच्छाएँ, आशाएँ, आकांक्षाएँ क्या होती हैं?
    उसे नहीं पता
    वो कुछ नहीं सोचती
    और ना कुछ कहती अपने बारे में,
    अपनी छोटी सी दुनिया में खुश...
    जीवन का ये भी एक रंग होता है आराधना जी...
    बहुत अच्छी रचना लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. हमारीवाणी को और भी अधिक सुविधाजनक और सुचारू बनाने के लिए प्रोग्रामिंग कार्य चल रहा है, जिस कारण आपको कुछ असुविधा हो सकती है। जैसे ही प्रोग्रामिंग कार्य पूरा होगा आपको हमारीवाणी की और से हिंदी और हिंदी ब्लॉगर के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओँ और भारतीय ब्लागर के लिए ढेरों रोचक सुविधाएँ और ब्लॉग्गिंग को प्रोत्साहन के लिए प्रोग्राम नज़र आएँगे। अगर आपको हमारीवाणी.कॉम को प्रयोग करने में असुविधा हो रही हो अथवा आपका कोई सुझाव हो तो आप "हमसे संपर्क करें" पर चटका (click) लगा कर हमसे संपर्क कर सकते हैं।

    टीम हमारीवाणी


    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    उत्तर देंहटाएं
  16. aapki rachnaaon mein samajik dard hai........vatvriksh ke liye apni rachna bhejen rasprabha@gmail.com per parichay aur photo ke saath

    उत्तर देंहटाएं
  17. इच्छाएँ, आशाएँ, आकांक्षाएँ क्या होती हैं?
    उसे नहीं पता
    वो कुछ नहीं सोचती
    और ना कुछ कहती अपने बारे में,
    अपनी छोटी सी दुनिया में खुश,
    निश्चिंत, खिलंदड़ और हँसमुख बड़की भौजी को
    चूल्हे के धुँए की आड़ में
    अपने आँसुओं को छिपाते पकड़ा
    "लकड़िया ओद हौ, धुअँठैले"
    बचपने में ब्याह
    खेल-खेल में
    तीन लड़कियाँ हो गयीं हैं उसकी...
    ....Sachhi aur man ke gahrayee mein utar jaane wali rachna... sach mein apne aas-paas hi n jaane kitne hi aisee banti kahaniyon ko dekh man darvit ho uthta hai.... ek aah bhar kar rah jaate hain ham aise kayen maukon par!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. वो हँसती रहती
    मानो सारी परेशानियों को
    सूप से पछोरकर उड़ा दिया हो
    दुखों को बुहार दिया हो
    और चिंताओं को फेंक दिया हो
    चावल के कंकड़ों के साथ बीनकर,
    ......काश हम बडकी भौजी बन पाते ......!

    उत्तर देंहटाएं